युवा हमेशा त्याग और सेवा के लिए तैयार रहे-जितेन्द्र ब्रह्मभट्ट

0 minutes, 0 seconds Read
Spread the love

 अरविंद गौड गुना । स्वामी विवेकानन्द जी की सारी उम्मीदें युवा हमेशा त्याग और सेवा के लिए तैयार रहेऔर आशाएं युवाओं से ही थी इसलिए हम सब को स्वामी विवेकानंद के बताये रास्ते पर चलना चाहिए।जब कभी भी परिवर्तन हुआ है उसमें युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।युवा हमेशा त्याग और सेवा के लिए तैयार रहे जिससे स्वामी विवेकानंद के सपनों के युवा बन सके। उक्त विचार यूथ मोटिवेटर जितेन्द्र ब्रह्मभट्ट ने मुख्य वक्ता के रूप में शांति विद्या मन्दिर रूठियाई द्वारा आयोजित युवा सप्ताह के समापन कार्यक्रम में कहीं। कार्यक्रम का शुभारंभ विद्यालय के मुख्य वक्ता जितेन्द्र ब्रह्मभट्ट, संरक्षक रूठियाई एसोसियेशन के अध्यक्ष आशीष शंकर तिवारी, प्राचार्य श्रीमती गिरजा तिवारी, उप प्राचार्य जितेन्द्र धाकड़, कार्यक्रम की अध्यक्षता विशाल सिंह जी ने की मां सरस्वती भारत माता स्वामी विवेकानन्द जी के चित्र की पूजन एवं माल्यार्पण कर किया।

Read more जवाहर नवोदय विद्यालय की चयन परीक्षा के लिये पोर्टल खुला, कक्षा 6टी में प्रवेश हेतु रजिस्ट्रेशन

सरस्वती वंदना मनोरमा लोधी, पूजा कुशवाह ने प्रस्तुत की। स्वागत गीत राधिका प्रजापति, ऋषिका अतिथियों का स्वागत तिलक लगाकर सिद्धि, शेली, उर्वशी, हर्षिता, भानू, पीयूष, जतिन ने किया। नृत्य देविका यादव, अनन्या चौहान, सेंकी चौहान, स्नेहा, आस्था, ने प्रस्तुत किया गया | अतिथि परिचय एवं कार्यक्रम का संचालन ज्वाला नायक ने दिया। विद्यालय की प्राचार्य श्रीमती गिरजा तिवारी ने कहा कि हर युवा को स्वामी विवेकानन्द जी के बारे में पढ़ना चाहिए। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विशाल सिंह जी ने कहा कि आज के समय अनुशासन युवाओं की आवश्यकता है।विद्यालय के छात्र सूरज लोधी स्वामी विवेकानंद के विषय में अपने विचार रखे। विवेक तोमर देश भक्ति गीत प्रस्तुत किया।अन्त में आभार आदर्श कुमार प्रजापति द्वारा व्यक्त किया गया।इस अवसर पर विद्यालय शिक्षक श्री ब्रज नारायण सर, प्रवीण सर, मनीष सर, श्री मति ज्योति मेम, सविता मेम, यशोदा मेम, निशा मेम, मुस्कान मेम, आर्ची मेम, दामिनी मेम, प्रीति मेम, भगवती मेम उपस्थित रहे। अन्त में विद्यालय की ओर से मुख्य वक्ता को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *