Shivraj Singh Chouhan : 27 मार्च को सीएम शिवराज खातों में अंतरित करेंगे 400 करोड़ की अनुदान सहायता राशि, ये होंगे लाभान्वित

0 minutes, 6 seconds Read
Spread the love

Shivraj Singh Chouhan : सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के विकास के लिए वर्ष 2021 में लागू की गई एमएसएमई नीति में इन उद्यमों को विभिन्न प्रकार के अनुदान एवं सेक्टर्स को विशेष पैकेज दिए जाने का प्रावधान है। एमएसएमई प्रावधानों में उद्यमों को उद्योग विकास अनुदान, गुणवत्ता प्रमाणन के लिए सहायता, पेटेंट के लिए प्रतिभूति, अधो-संरचना विकास, ऊर्जा लेखा परीक्षा और बीमार इकाइयों के पुनर्जीवन के लिए सहायता प्रदान की जाती है।

Shivraj Singh Chouhan : आगामी चुनावों से पहले शिवराज सरकार एक्शन मोड में नजर आ रही है। राज्य सरकार का फोकस सरकारी योजनाओं के क्रियान्वन, युवाओं के रोजगार, कर्मचारियों, महिलाओं समेत अनेक वर्गों के साथ हितग्राहियों पर फोकस बना हुआ है। 24 मार्च को नीमच को करोड़ों की सौगात देने के बाद अब सीएम शिवराज सिंह चौहान 27 मार्च को 1500 एमएसएमई नव-उद्यमियों को 400 करोड़ की अनुदान सहायता राशि देने जा रहे है।

Read more : PM Kisan 14th Kist Kab Aayegi : किसानों के लिए एक बड़ी खुशखबरी इस दिन आ सकते है किसानो के सम्मान निधि के 4000 रुपए

सीएम शिवराज सिंह चौहान 27 मार्च को प्रदेश के 1500 सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के 2000 मामलों में सिंगल क्लिक से 400 करोड़ रूपए अनुदान सहायता राशि उद्यमियों के खाते में अंतरित करेंगे। कार्यक्रम मुख्यमंत्री निवास कार्यालय के समत्व सभागार में सुबह 11:30 बजे से होगा। एमएसएमई मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा भी शामिल होंगे। प्रदेश के औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधि और हितलाभ वाले उद्यमी भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से शामिल होंगे।

अनुदान-सेक्टर्स को विशेष पैकेज का प्रावधान

Read more : soft cotton price : नरमा की अगेती बुआई के लिए सबसे अच्छी वैरायटी, होगी 12 से 15 क्विंटल तक बम्पर पैदावार

सचिव एमएसएमई पी. नरहरि ने बताया कि कार्यक्रम का सीधा प्रसारण दूरदर्शन, क्षेत्रीय न्यूज़ चैनल और सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर भी किया जाएगा। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के विकास के लिए वर्ष 2021 में लागू की गई एमएसएमई नीति में इन उद्यमों को विभिन्न प्रकार के अनुदान एवं सेक्टर्स को विशेष पैकेज दिए जाने का प्रावधान है। एमएसएमई प्रावधानों में उद्यमों को उद्योग विकास अनुदान, गुणवत्ता प्रमाणन के लिए सहायता, पेटेंट के लिए प्रतिभूति, अधो-संरचना विकास, ऊर्जा लेखा परीक्षा और बीमार इकाइयों के पुनर्जीवन के लिए सहायता प्रदान की जाती है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *