Kisan News किसान अपने खेतों में फसलों की अच्छी पैदावार के लिए नही करेंगे यूरिया खाद का उपयोग ? ये नया खाद करेगा यूरिया का खेल खतम

0 minutes, 10 seconds Read
Spread the love

Kisan News : किसान खेती में यूरिया खाद का अब नहीं करेंगे इस्तेमाल? ये नया खाद करेगा यूरिया का खेल खतम, मीडिया रिपोर्ट के अनुसार खेती के उपयोग में लिए जाने वाले यूरिया के खतरनाक परिणामों को देखते हुए अब सरकार यूरिया खाद के उपयोग को कम करने की तैयारी कर रही है। सरकार यूरिया खाद का खेती में उपयोग कम करने को लेकर कई सालो से विचार कर रही थी लेकिन अब सरकार ने यूरिया खाद को धीरे-धीरे कम करने का मन बना लिया है।

नैनो यूरिया किसानो के लिए अधिक फायदेमंद (Nano urea more beneficial for farmers)

Read more : Mandsaur Mandi Bhav : मंदसौर मंडी में आज का ताजा भाव देखें , गेंहू और लहसुन में जबरदस्त हलचल देखने को मिल रही है ।

यूरिया नाइट्रोजन युक्त खाद रहता है जो फसलों के विकास बृद्धि हेतु अत्यंत उपयोगी होता है। आज के समय में यूरिया के बिना खेती करना संभव नहीं है। इन फसलों यूरिया की पूर्ति नही की गयी तो फसल पीली पड़ने लगती है और फलस्वरूप उत्पादन कम निकलता है जिस से किसान को काफी नुक्सान होता है। लेकिन आज के समय में यूरिया की जगह नैनो यूरिया का अधिक उपयोग किया जा रहा है।

बंद करे यूरिया खाद का उपयोग (Stop using urea fertilizer)

किसानों के मन में यही सवाल है की, यूरिया नाइट्रोजन की जगह कोनसी खाद का उपयोग किया जाये। सरकार ने इसके लिए नैनो यूरिया लांच किया है जो इफको कंपनी का पेटेंट प्रोडक्ट है। सरकार का सुझाव यह ही की यूरिया खाद का उपयोग कम करके उसकी जगह नैनो यूरिया का उपयोग करे।

Read more : CM Shivraj Announcement for MP Farmers : सीएम शिवराज की बड़ी घोषणा, किसानों को मिलेगा लाभ, बढ़ाई जाएगी कर्ज वसूली की तारीख, इतनी मिलेगी सहायता राशि

नैनो यूरिया बदलेगी किसानो का खेल (Nano urea will change the game of farmers)

सरकार नैनो यूरिया के उपयोग को बढ़ावा दे रही है। यूरिया खाद पूरी तरह बंद नहीं होगा बस इसका उत्पादन कम किया जा सकता है। किसानो को चिंता करने की जरुरत नहीं यूरिया बंद नहीं कम होगा और इसकी जगह नैनो यूरिया उपयोग करे जो की सस्ता भी है। नैनो यूरिया किसानो के लिए वरदान साबित हो रहा है।

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *