अंधेरी नगरी चौपट राजा आधा लड्डू तू खाजा आधा में और अब शिकायत हुई तो लड्डू की चासनी में उलझे सरपंच और सचिव

0 minutes, 0 seconds Read
Spread the love

 

हतनारा  पिपलौदा जनपद पंचायत क्षेत्र के ग्राम हतनारा में स्वतंत्रता दिवस के लड्डू वितरण में हुई धांधली का मामला सामने आया है। जनपद क्षेत्र की समस्त ग्राम पंचायत में 150 रुपए प्रति किलो के मन से लड्डू वितरण किए गए, किंतु ग्राम पंचायत हतनारा में पंचायत दर्पण पर अपलोड किए गए बिल के अनुसार₹180 प्रति किलो के मन से लड्डू वितरण का बिल लगाया गया है। इससे साफ जाहिर होता है कि जब सभी पंचायत में एक ही दर में लड्डू दिए गए तो एक ग्राम पंचायत में अलग कैसे?

 

पंचायत दर्पण पर अपलोड बिल में देखने पर हेरा फेरी साफ नजर आती है। इस मामले को लेकर यह भी जाहिर होता है कि वरिष्ठ अधिकारी मामले में ध्यान नहीं देते हैं तथा पंचायत दर्पण पर ग्राम पंचायत द्वारा मनमाने बिल अपलोड कर दिए जाते हैं। ऐसे मामलों में जहां अधिकारी, पंचायत के कर्मचारी, पंचायत के सरपंच तथा संबंधित फार्म भी जांच के दायरे में आते हैं।

 

पंचायत में होने वाले सभी प्रकार के कार्यों के बिल अपलोड किए जाने को लेकर सरकार की मंशा है कि आम लोगों को इसकी जानकारी हो सके तथा समस्त प्रक्रिया पारदर्शी हो। लेकिन इतना सब होने के बाद भी ग्राम पंचायत के पदाधिकारी सजग नहीं है और अधिकारी भी ऐसे मामलों को नजरअंदाज कर देते हैं।

उप सरपंच द्वारा लगाया गया आरोप

ग्राम पंचायत हतनारा के उप सरपंच अनोखी लाल राठौड द्वारा बताया गया कि मैंने पंचायत दर्पण से बिल निकाल कर देखा तो सरपंच व सचिव ने फर्जी बिल अपलोड कर निकले पैसे इस विषय पर ग्रामीणों ने मिलकर 181 पर शिकायत भी दर्ज करवाई।

जनपद पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी करेंगी जांच

इस संबंध में जनपद पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी का कहना है कि मामला दूरभाष से संज्ञान में आया है इसके लिए ग्राम पंचायत के सरपंच तथा सचिव को नोटिस जारी कर मामले की जांच की जाएगी।

बेफिक्र जिला पंचायत सीईओ

मिडिया द्वारा जिला पंचायत सीईओ अमन वैष्णव से फर्जी बिल के विषय में जानकारी लेना चाहि तो मीडिया कर्मी को ही कहा आप लिखित में शिकायत करें वर्तमान में जिला पंचायत सीईओ अमन वैष्णव द्वारा मीडिया कर्मी से ऐसा रवैया अपनाया जाता है तो जिला पंचायत सीईओ से कार्रवाई की क्या उम्मीद की जा सकती है देखा जाता है कि सरपंच व सचिव अपनी पंचायत में मनमानी करके फर्जी तरीके से पंचायत दर्पण पर अपलोड कर राशि निकालकर डकार जाते हैं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *