PM animal Yojana : पशुओं के चारा के बिजनेस के लिए मोदी सरकार दे रही 10 लाख तक का लोन, जल्दी उठाए फायदा

0 Comments

Spread the love

PM animal Yojana : इन दिनों नौकरी के साथ-साथ बिजनेस का भी क्रेज बढ़ा है। ग्रामीण इलाकों में भी किसान अब खेती के साथ ही बिजनेस को तरजीह दे रहे हैं। अगर आप भी गांव या नजदीक शहर में रहकर मोटी कमाई करना चाहते हैं तो हम आपको एक बिजनेस आइडिया दे रहे हैं। यह पशु चारा बनाने का बिजनेस (Animal’s Feed Making Business) है। इस बिजनेस के जरिए पूरे साल मोटी कमाई कर सकते हैं। इसकी डिमांड हर सीजन में रहती है। इसमें आप मक्के का भूसा, गेहूं की भूसी, अनाज, केक, घास आदि जैसे कृषि अवशेषों का इस्तेमाल करके भी पशु चारा बना सकते हैं। पशुओं के आहार के लिए भी खास तौर से ध्यान देने लगे हैं।

Read more : MP Farmers News किसानों के लिए महत्वपूर्ण खबर, चना-सरसों और मसूर का उपार्जन 25 मार्च से, ये रहेंगे नियम, जानें रेट-प्रक्रिया
इस बिजनेस को शुरू करने के लिए लाइसेंस की जरूरत पड़ती है। लाइसेंस के अलावा इस बिजनेस के लिए और भी कई नियम हैं। जिनका पालन करना जरूरी है। पशु चारा बिजनेस दुधारू पशुओं के लिए काफी फायदेमंद होता है।

लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन

पशुचारा बनाने वाले फार्म (Animal Fodder Farm) का नाम चुनकर शॉपिंग एक्ट में रजिस्ट्रेशन (Shopping Act Registration) करवाना होगा। इसके बाद FSSAI से फूड लाइसेंस (FSSAI Food License) लेना पड़ेगा। फिर सरकार को टैक्स देने के लिए GST रजिस्ट्रेशन (GST Registration) भी कराना होगा। इसके अलावा आपको पशुचारा बनाने के लिए कई तरह की मशीनों (Animal Fodder Machines) की जरूरत पड़ेगी। इतना ही नहीं पर्यावरण विभाग (Environment Department) से NOC भी लेना पड़ेगा। पशुपालन विभाग (Animal Husbandry Department License) से भी लाइसेंस लेना होगा। अगर आप पशु चारा बनाने के बिजनेस को अपने ब्रांड के नाम से शुरू करना चाहते हैं तो ट्रेडमार्क (Trademark) भी लेना होगा। ISI मानक के अनुरूप BIS सर्टिफिकेशन (BIS Certification) भी बनाने की जरूरत होगी।

Read more : CM Shivraj Singh Chouhan : सीएम शिवराज का बड़ा बयान-ओलावृष्टि का सर्वे जारी, किसानों को जल्द मिलेगी राहत राशि, अधिकारियों को दिए ये निर्देश

कई राज्य सरकारें स्वरोजगार के लिए लोन देती हैं। इस बिजनेस के लिए भी आप यह लोन ले सकते हैं। इसके अलावा प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत 10 लाख रुपये तक लोन ले सकते हैं।

इन मशीनों की होगी जरूरत

चारा पीसने के लिए फीड ग्राइंडर मशीन, कैटल फीड मशीन, मिक्स करने के लिए मिक्सर मशीन और आहार को तौलने के लिए वेट मशीन की जरूरत पड़ेगी।

ग्रामीण इलाकों में बड़ी संख्या में लोग पशुपालन करते हैं। यह किसानों के लिए आमदनी के सबसे बड़े स्रोत के तौर पर उभर का सामने आ रहा है। ऐसे में चारे के लिए आपको लगातार ऑर्डर मिलते रहेंगे। अगर आपका बिजनेस एक बार चल गया तो आसानी से आप लाखों का मुनाफा हर महीने कमा सकते हैं।

MP Farmers News किसानों के लिए महत्वपूर्ण खबर, चना-सरसों और मसूर का उपार्जन 25 मार्च से, ये रहेंगे नियम, जानें रेट-प्रक्रिया

CM Shivraj Singh Chouhan : सीएम शिवराज का बड़ा बयान-ओलावृष्टि का सर्वे जारी, किसानों को जल्द मिलेगी राहत राशि, अधिकारियों को दिए ये निर्देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *